नये वर्ष की नई अभिलाषा ----

बचपन के इन्द्र धनुषी रंगों में भीगे मासूम बच्चे भी इस ब्लॉग को पढ़ें - - - - - - - -

प्यारे बच्चो
एक दिन मैं भी तुम्हारी तरह छोटी थी I अब तो बहुत बड़ी हो गयी हूं I मगर छुटपन की यादें पीछा नहीं छोड़तीं I उन्हीं यादों को मैंने कहानी -किस्सों का रूप देने की कोशिश की है I इन्हें पढ़कर तुम्हारा मनोरंजन होगा और साथ में नई -नई बातें मालूम होंगी i
मुझसे तुम्हें एक वायदा करना पड़ेगा I पढ़ने के बाद एक लाइन लिख कर अपनी दीदी को अवश्य बताओगे कि तुमने कैसा अनुभव किया I इससे मुझे मतलब तुम्हारी दीदी को बहुत खुशी मिलेगी I जानते हो क्यों .......?उसमें तुम्हारे प्यार और भोलेपन की खुशबू होगी -- - - - - -I

सुधा भार्गव
subharga@gmail.com(e.mail करने का पता)
baalshilp.blogspot.com(बचपन के गलियारे
)
sudhashilp.blogspot.com( तूलिका सदन में साहित्य की अनेक विधायें)
baalkunj.blogspot.com(बच्चों की कहानियां)

शुक्रवार, 2 जुलाई 2010

मैं जब छोटी थी

  दूधचोर -भाग 1








(क )
मैं जब छोटी थी दूध चोर थी | सर्दी हो या गरमी मैं सुबह ६ .३० पर चुपचाप उठती ,बिना आह्ट किये स्कूल के लिए तैयार होतीं | खाती -पीती भी नहीं बस घर से भाग लेती |

मेरे कपड़े पहनने का तरीका निराला था | सदाबहार बस फ्रोक पहन लिया ,दिसंबर की कड़क ठण्ड -- I पर स्वटर के बटन आगे से खुले हुए ,पैरों में हवाई चप्पलें! जेब में जरूर चवन्नी या दस का सिक्का खामोश पड़ा रहता जिसे मैं अपने बाबा से हड़प लेती | अम्मा - पिताजी की नींद खुलती तो बड़ा अफसोस होता -हाय- - बच्ची भूखी ही चली गयी |लेकिन मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता था |मैं तो चाहती ही नहीं थी कि कोई जागे | किसी के जागने का मतलब था -दूध जरूर पीना- - - I

एक दिन बाबा बोले -जग्गी ,मुन्नी बिटिया तो दुबली हो गयी है |पढ़ाई का बोझ भी बहुत है |ऐसा करो --कसेरू हलवाई की दुकान पाठशाला के पास है |उससे रोज एक पाव दूध बाँध दो | मुन्नी टिफिन -टाइम में पी आया करेगी |


कसेरू हलवाई वाली बात पिताजी को जँच गयी I वे दिल के मुलायम थे मगर क्रोध में आकर आप़ा खो बैठते I उनका पारा गर्म होने से सब अपने को छिपाते फिरते ,न जाने भरा बादल किस पर बरस पड़े Iजब उन्होंने कहा'-कल से मुन्नी को रोज हलवाई की दुकान पर जाकर दूध पीना पड़ेगा |'मैंने सिर झुकाकर हाँ में हाँ मिला दी |'

क्रमश:

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें